बड़ी बहन के इलाज के लिए 10 हजार में बिक गयी छोटी बहन

आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के नेल्लोर जिले में स्थित एक दंपति ने अपनी 12 साल की लड़की को 46 वर्षीय एक व्यक्ति को बेच दिया. दंपति ने ऐसा इसलिए किया, क्योंकि उन्हें अपनी बड़ी बेटी का इलाज करना था. उनकी बड़ी बेटी सांस के रोग से पीड़ित है. आरोपी चिन्ना सुब्बैया ने बुधवार को नाबालिग से शादी की. हालांकि गुरुवार को महिला और बाल विकास अधिकारियों ने बचा लिया. नाबालिग को जिला बाल स्वास्थ्य केंद्र में स्थानांतरित कर दिया गया है, जहां उसकी काउंसलिंग की जा रही है.  

दंपति की 12 और 16 साल की दो बेटियां हैं। बड़ी बेटी सांस की बीमारी से जूझ रही है और उसका काफी समय से इलाज कराया जा रहा है। उन्होंने 12 साल की बेटी को 46 साल के अधेड़ शख्स को बेच दिया जिसकी पहचान चिन्ना सुबैया के तौर पर हुई है। सुबैया ने बुधवार को लड़की से शादी कर ली थी। एक दिन बाद, उसे महिला और बाल कल्याण विभाग के अधिकारियों द्वारा बचाया गया। उसे जिले के शिशु देखभाल केंद्र में स्थानांतरित कर दिया गया है, जहां उसकी काउंसलिंग की जा रही है।

दंपति ने बेटी के लिए मांगे थे 25,000 रुपये

सुबैया कोट्टुर निवासी दंपती के पड़ोस में ही रहता है। उसने सौदेबाजी करके 10 हजार रुपये में सौदे को पक्का किया जबकि दंपती ने उससे 25,000 रुपये की मांग की थी। पुलिस ने बताया कि पारिवारिक विवाद के कारण सुबैया की पत्नी उसे छोड़कर चली गई थी। बताया जा रहा है कि अतीत में भी सुबैया ने परिवार को उनकी दूसरी बेटी से शादी करने का प्रस्ताव दिया था।

पड़ोसियों ने किया आगाह

नाबालिग को खरीदने के बाद सुबैया ने उससे शादी की और बुधवार रात दामपुर स्थित अपने रिश्तेदार के घर ले आया। पड़ोसियों ने बच्ची के चीखने और रोने की आवाज सुनी। महिला एवं बाल कल्याण विभाग के अधिकारी ने कहा, ‘वे (पड़ोसी) सुब्बैया के रिश्तेदारों के घर गए और पूछा की क्या हो रहा है। उन्होंने फिर स्थानीय सरपंच से संपर्क किया, जिन्होंने हमें मामले की जानकारी दी।’ पुलिस सुबैया के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और उससे पूछताछ की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *