अलीबाबा और जैक मा को भारतीय कोर्ट ने भेजा समन, फेक न्यूज फैलाने का आरोप

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम की एक अदालत ने चीन की कंपनी अली बाबा (Alibaba) और उसके फाउंडर जैक मा (Jack Ma) को समन किया है। यह समन उस केस में भेजा गया है, जिसमें कंपनी ने भारत में एक कर्मचारी को कथित रूप से गलत तरीके से नौकरी से निकाल दिया था। कंपनी पर केस करने वाले पूर्व कर्मचारी का कहना है कि कंपनी के ऐप पर एक फेक न्यूज फैलाई जा रही है, जिसके खिलाफ कर्मचारी ने बोला था और फिर उसे नौकरी से निकाल दिया गया।  

कुछ हफ्ते पहले ही भारत ने चीन के 59 ऐप को बैन (59 chinese app ban) किया है। इनमें अलीबाबा का ऐप यूसी न्यूज और यूसी ब्राउजर भी शामिल है। ये बैन लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुए तनाव के बाद लगाया गया, जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। भारत ने राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरे का हवाला देते हुए ये बैन लगाया है। इस बैन की चीन ने आलोचना भी की थी। इसके बाद भारत ने सभी प्रभावित कंपनियों से लिखित रूप से जवाब मांगा था कि उन्होंने कंटेंट सेंसर किया था या किसी विदेशी सरकार के लिए काम किया था।

20 जुलाई की इस कोर्ट की फाइलिंग के अनुसार अलीबाबा की यूसी वेब के एक पूर्व कर्मचारी पुष्पेंद्र सिंह परमार ने आरोप लगाया कि कंपनी चीन के खिलाफ सभी कंटेंट को सेंसर करती थी और इसके यूसी ब्राउजर और यूसी न्यूज ऐप फेक न्यूज चलाते थे, जिससे सामाजिक और राजनीतिक अस्थिरता पैदा हो।

गुरुग्राम के एक जिला कोर्ट की सिविल जज सोनिया शेओकांड ने अलीबाबा, जैक मा और करीब दर्जन भर लोगों के खिलाफ समन जारी किया है। उनसे कहा गया है कि वह 29 जुलाई तक खुद कोर्ट में आएं या अपने वकील को कोर्ट में भेजें। जज ने कंपनी और इसके एग्जिक्युटिव्स से 30 दिन के अंदर लिखित जवाब भी देने को कहा है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *