क्यों धोनी और कोहली को स्लेज नहीं करते ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स, डीन जोन्स ने बताई वजह

पूर्व दिग्गज बल्लेबाज़ डीन जोंस ने ऑस्ट्रेलिया को 2015 विश्व कप जिताने वाले पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क के उस बयान को सिरे से खारिज कर दिया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि आईपीएल कॉन्ट्रैक्ट बचाने के लिए कंगारू खिलाड़ियों ने जान-बूझकर विराट कोहली को स्लेज नहीं किया.
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसी साल मार्च में माइल क्लार्क ने यह बयान देकर क्रिकट जगत में सनसनी फैला दी थी. हालांकि, जोंस ने क्लार्क से इतर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के विराट कोहली और एमएस धोनी को स्लेज न करने का कारण बताया.

स्लेजिंग धोनी और विराट के लिए ऑक्सीजन- डीन जोंस

जोंस ने कहा, ‘दरअसल, ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी कोहली और धोनी को इसलिए स्लेज नहीं करते हैं, क्योंकि स्लेजिंग इन दोनों खिलाड़ियों के लिए ऑक्सीजन का काम करती है. विराट और धोनी को उकसाने का मतलब है कि उन्हें चैलेंज करना और पूरी दुनिया जानती है कि यह दोनों खिलाड़ी चैलेंज का स्वीकार करने में माहिर हैं.’

उन्होंने आगे कहा, ‘दुनिया का कोई भी खिलाड़ी इन दोनों बल्लेबाज़ों को छेड़ने या चैलेंज देने की मूर्खता नहीं करेगा. क्योंकि अगर उन्होंने ऐसा किया तो मैच का रुख पूरी तरह बदल जाएगा. यहां समझने की बात यह है कि विराट और धोनी दोनों ही आक्रामक खिलाड़ी हैं, ऐसे में उनको छेड़ना विपक्षी टीम के लिए भारी पड़ सकता है.’

जोंस ने एक यूट्यूब चैनल पर बातचीत में कहा, ‘मैं आपको बताता हूं कि सभी ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी विराट के सामने चुप क्यों थे. दरअसल, जब विवि रिचर्ड्स बल्लेबाज़ी के लिए आते थे तो हम शांत हो जाते थे. ऐसे ही हम जावेद मियांदाद और मार्टिन क्रो के आने पर भी चुप हुए. इसके पीछे यही एक कारण है कि स्लेजिंग इनके लिए ऑक्सीज़न है और हम इन्हें ऑक्सी़जन नहीं दे सकते.’
उन्होंने आगे कहा, मुझे आईपीएल कॉन्ट्रैक्ट बचाने के लिए विराट को न छेड़ने वाली बात बकवास लगी. क्या विराट किसी को खेलने से रोकने वाले हैं. यह सब कोच और प्रबंधकों पर है.

हम विराट को उकसाना नहीं चाहते थे- टिम पेन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि क्लार्क के उस बयान को मौजूदा टेस्ट कप्तान टिन पेन ने भी खारिज कर दिया था. पेन ने कहा था, ‘सभी खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया को मैच जिताने की पूरी कोशिश कर रहे थे. मुझे नहीं पता कि कौन विराट के साथ अच्छा व्यवहार कर रहा था. हां हम उसे उकसाना नहीं चाहते थे, क्योंकि उससे वह काफी बढ़िया खेलने लगता है.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *