Solar Eclipse 2020: प्रेग्नेंट महिलाएं रहें सावधान, भूलकर भी ना करें ये काम

कोरोना काल में हम सब एक बड़ी खगोलीय घटना के भी गवाह बनेंगे। इस रविवार यानी 21 जून को वर्ष का पहला सूर्यग्रहण लगने जा रहा है। ज्योतिषीय दुनिया में इसे खडग्रास कंकण सूर्यग्रहण कहा जाता है। इस ग्रहण को ज्योतिष शास्त्र में काफी महत्व दिया जा रहा है। ग्रहण की शुरुआत सुबह 10:20 बजे और समाप्ति दोपहर 01:49 बजे तक होगी। मगर, इसका सूतक का 20 जून शनिवार रात 10:27 से शुरू और रविवार शाम 4 बजे समाप्त (ज्योतिष ग्रहण पहले व बाद के 12 घंटे को सूतक काल मानते हैं) होगा।

मान्यता है कि सूतक काल के समय कुछ कामों से परहेज करना चाहिए, खासकर गर्भवती महिलाओं। इस दौरान किए गए कुछ काम करने से जच्चा और बच्चा दोनों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। सूतक काल के समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए…

घर से बाहर ना निकलें

गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान घर के बाहर नहीं निकलना चाहिए। ग्रहण की छाया जच्चा व बच्चे पर पड़ना अशुभ माना जाता है।

ग्रहण के बाद करें स्नान

ग्रहण लगने से पहले गर्भवति महिलाओं को एक बार जरूर नहा लेना चाहिए। इसके अलावा जब ग्रहण खत्म हो जाए तो उसके बाद एक बार जरूर नहाएं। इससे ग्रहण के दौरान निकली हुई दूषित तिरंगों का असर आप पर नहीं होगा।

कुछ भी न खाएं

ग्रहण की हानिकारक तिरंगों की वजह से पका हुआ खाना अशुद्ध हो जाता है इसलिए इस दौरान कुछ खाने-पीने से भी परहेज करें।

नुकीली चीजें

चाकू, कैंची, सूई और पैन जैसी नुकीली चीजों का इस्तेमाल भी ना करें। यही नहीं, महिलाओं के साथ उनके पतियों को भी ग्रहण के दौरान इन चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से उसके शिशु के अंगों को हानि पहुंच सकती है।

नारियल रखें

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को अपने पास 1 नारियल रखना चाहिए। इससे नेगेटिव एनर्जी आस-पास नहीं आती।

सोना भी है वर्जित

सूर्य ग्रहण के दौरान सोने की मनाही होती है लेकिन गर्भवती महिलाओं को इसमें कुछ छूट दी गई है। हालांकि कि कोशिश करें कि आप अपने आराध्य का ध्यान करें।

ग्रहण देखने से बचें

गर्भवती महिलाओं को ग्रहण नहीं देखना चाहिए। माना जाता है कि इससे महिलाओं के लिवर, स्किन और आंखों को बहुत अधिक हानी होती है। साथ ही गर्भ में पर रहे बच्चे को भी त्वचा से जुड़ी किसी तरह की परेशानी हो सकती है।

इन बातों का भी रखें ध्यान…

. ग्रहण के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए गर्भवती महिला को तुलसी का पत्ता जीभ पर रखकर हनुमान चालीसा और दुर्गा स्तुति का पाठ करना चाहिए।
. नॉनवेज व नशीली वस्तुओं से दूर रहें।
. नाभि के पास चंदन का पेस्ट या गोबर लगाएं
. किसी प्रकार का कोई तनाव ना लें
. धार्मिक किताबें पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *