नई शिक्षा नीति पर PM मोदी बोले- ये सिर्फ सर्कुलर नहीं, नया भारत तैयार करने की नींव

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को नई शिक्षा नीति (NEP) को लेकर देश के विश्वविद्यालयों के कुलपतियों, उच्च शिक्षण संस्थानों के निदेशकों और कालेजों के प्राचार्यो को संबोधित किया। इस दौरान प्रधानमंत्री के साथ केन्द्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, शिक्षा राज्य मंत्री संजय धोत्रे और शिक्षा नीति को तैयार वाली कमेटी के अध्यक्ष के कस्तूरीरंगन भी मौजूद रहे।

नई शिक्षा नीति को लेकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने एक कॉन्क्लेव का आयोजन किया है। इस कान्क्लेव को संबोधित करते हुए पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि बीते वर्षों में शिक्षा व्यवस्था में बड़े बदलाव नहीं हुए थे। इससे समाज में जिज्ञासा बढ़ाने के बजाय भेड़चाल को प्रोत्साहन मिलने लगा था। नई शिक्षा नीति में भेड़चाल की कोई जगह नहीं है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं सदी के भारत की, नए भारत की फाउंडेशन तैयार करने वाली है।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि हर देश,अपनी शिक्षा व्यवस्था को राष्ट्रीय मूल्य के साथ जोड़ते हुए, अपने राष्ट्रीय लक्ष्य के अनुसार सुधार करते हुए चलता है। नई शिक्षा नीति के प्रति पूरी प्रतिबद्धता जताते हुए पीएम मोदी ने आश्वासन दिया कि इसे पूरी तरह से लागू किया जाएगा।

नई शिक्षा नीति में छात्रों के साथ-साथ नए शिक्षक तैयार करने पर भी जोर दिया जा रहा है। शिक्षकों की ट्रेनिंग पर भी फोकस किया जाएगा। पीएम मोदी ने कहा कि जब किसी संस्थान को मजबूत करने की बात होती है, तो ऑटोनॉमी पर चर्चा होती है। एक वर्ग कहता है कि सबकुछ सरकारी संस्थान से मिलना चाहिए, दूसरा कहता है सब कुछ ऑटोनॉमी के तहत मिलना चाहिए। लेकिन अच्छी क्वालिटी की शिक्षा का रास्ता इसके बीच में से निकलता है, जो संस्थान अच्छा काम करेगा उसे अधिक रिवॉर्ड मिलना चाहिए। शिक्षा नीति के जरिए देश को अच्छे छात्र, नागरिक देने का माध्यम बनना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *