#MeToo: पाकिस्तानी सिंगर को 3 साल की सजा, अली जफर पर लगाया था छेड़खानी का आरोप

कुछ वक्त पहले हैशटैग मीटू अभियान (#MeToo) के दौरान गायिका मीशा शफी ने अभिनेता व गायक अली जफर पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे। जिसके बाद ये मामला कोर्ट तक पहुंचा था। कोर्ट में अली के खिलाफ लगे सभी आरोप खारिज हो गए, जिसके बाद अली ने मीशा के खिलाफ मानहानि का मुकदमा किया था, जिसमें अब गायिका को तीन साल की सजा सुनाई गई है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल मीशा ने कुछ वक्त पहले अली पर संगीन आरोप लगाए थे। मीशा ने कहा था कि अली ने उनका उत्पीड़न किया है। मीशा ने बताया था कि वो एक बार अपने पति के साथ अली के घर गई थी। तभी अली ने घर के एक कमरे में बुलाकर यौन शोषण किया था। इसके बाद ये पूरा मामला कोर्ट तक पहुंचा था।

कोर्ट में मीशा को मिली हार

कोर्ट में अली के खिलाफ आरोप सिद्ध नहीं हो पाए थे, जिसके बाद अली ने मीशा के खिलाफ मानहानि का मुकदमा किया था। इस मुकदमे में फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने मीशा को तीन साल की सजा सुनाई है।

मीशा का क्या है कहना

खुद को सजा मिलने के बाद मीशा ने कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाए हैं। मीशा ने कहा कि, ‘ये कैसा सिस्टम है और ऐसे केस में किस महिला को किस कीमत पर न्याय मिला है।’ वहीं मीशा के वकील का कहना है कि वो इस फैसले को चुनौती देने की योजना बना रहे हैं।

मीशा ने मांगी थी अली से माफी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अली ने बताया कि जब मीशा के लगाए गए आरोप खारिज हो गए तो मीशा ने उन्हें मैसेज किए और उनसे माफी मांगी। हालांकि अली ने साफ कह दिया था कि वो मीशा को तब तक माफी नहीं दे सकते जब तक वो सार्वजनिक तौर पर उनसे मांफी नहीं मांग लेती है।

लंबे वक्त से सह रहा था परिवार

याद दिला दें कि उसस पहले एक इंटरव्यू में अली ने कहा था, ‘बहुत लंबे वक्त से मैं और मेरा पूरा परिवार ये सब सह रहे हैं। मैंने इसको लेकर किसी से कुछ नहीं कहा सिर्फ कानूनी कार्रवाई करने का फैसला लिया था, लेकिन मीशा ने हमेशा मेरा करियर खराब करने की सोची। उन्होंने कई फर्जी अकाउंट भी बनाए और मेरी इमेज को खराब किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *