मुकेश अंबानी की RIL का शेयर रिकॉर्ड स्तर पर, चार महीने में 130% चढ़ा स्टॉक

देश की सबसे मूल्यवान कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) का शेयर आज 2000 रुपये के स्तर को पार कर गया। शेयर बाजार में गिरावट के बावजूद आरआईए (RIL) का शेयर 2010 रुपये के अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। इसके साथ आरआईएल का मार्केट कैप भी बढ़कर 12.7 लाख करोड़ रुपये हो गया है. 23 मार्च के बाद से देखें तो आज 4 महीने में शेयर में 132 फीसदी तेजी रही है। 23 मार्च को शेयर कोरोना वायरस के चलते 867 रुपये के स्तर पर आ गया था, जो 1 साल का लो है। हालांकि इसके बाद शेयर में लगातार ग्रोथ देखने को मिली है। इस महीने के अंत में आरआईएल अपने तिमाही नतीजे भी जारी करने जा रही है।  

जियो में निवेश से चढ़ा कंपनी का शेयर

आरआईएल के शेयरों में 23 मार्च के बाद से यानी 4 महीने से भी कम समय में निवेशकों को करीब 130 फीसदी रिटर्न मिला है। 23 मार्च को शेयर 867 रुपये के स्तर पर पहुंच गया था, जो 52 हफ्तों का न्यूनतम स्तर था। कोरोना वायरस महामारी के चलते शेयर बाजार में बड़ी गिरावट रही थी, जिससे आरआईएल की प्रभावित हुई। लेकिन उसके बाद जियो में निवेश का जो सिलसिला शुरू हुआ उससे आरआईएल के शेयरों ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

जियो के लिए 1.52 लाख करोड़ का निवेश

14 हफ्ते से कम समय में जियो ने 14 ग्लोबल कंपनियों के साथ 15 सौदों के जरिए आरआईएल ने 1.52 लाख करोड़ रुपये जुटाए। इस निवेश की शुरुआत फेसबुक से हुई और अंत गूगल के निवेश के साथ। फेसबुक ने 43574 करोड़, सिल्वर लेक ने करीब 5656 करोड़, विस्ता ने 11367 करोड़, जनरल अटलांटिक ने 6598 करोड़, केकेआर ने 11367 करोड़, मुबाडला ने 9094 करोड़, सिल्वर लेक ने 4547 करोड़, एडीएआई ने 5684 करोड़, टीपीजी ने 4547 करोड़, एल कैटरटॉन ने 1895 करोड़, पीआईएफ ने 11367 करोड़, इंटेल ने करीब 1895 करोड़, क्वॉलकॉम ने 730 करोड़ रुपये और गूगल ने 33737 हजार करोड़ रुपये निवेश की घोषणा की है।  

कर्ज मुक्त होने से मजबूत हुआ सेंटीमेंट

रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) ने 19 जुलाई को ही कर्जमुक्त होने का एलान कर दिया था। आरआईएल ने मार्च 2021 तक कर्ज मुक्त होने का लक्ष्य रखा था, जो 9 महीने पहले ही पूरा हो चुका है। आरआईएल पर जितना कर्ज था, उससे ज्यादा आरआईएल ने जियो की हिस्सेदारी बेचकर और राइट्स इश्यू से जुटा लिए हैं। हाल ही में आरआईएल का 53,124.20 करोड़ का राइट्स इश्यू सफलता पूर्वक पूरा हुआ। जियो को अबतक कुल 1.52 लाख करोड़ का निवेश हासिल हुआ है। इसके अलावा ईंधन की खुदरा बिक्री कारोबार में 49 फीसदी हिस्सेदारी बेचकर 7,000 करोड़ रुपये जुटाए हैं। कुल मिलाकर कंपनी ने 2.12 लाख करोड़ रुपये जुटाए। यानी आरआईएल ने कुल 2 लाख करोड़ से ज्यादा जुटा लिए हैं। दिसंबर 2019 तक आरआईएल पर नेट डेट करीब 1.53 लाख करोड़ के करीब था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *