महाराष्ट्र सरकार का बड़ा फैसला, नागपुर में 15 मार्च से लगेगा लॉकडाउन

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के बाद नागपुर के शहरी इलाके में 15 मार्च से पूरी तरह से लॉकडाउन लगा दिया जाएगा। जिले के प्रभारी मंत्री नितिन राउत ने गुरुवार को कहा है कि शहरी इलाके में 15 से 21 मार्च तक पूर्ण लॉकडाउन लगाया जाएगा। केवल आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। महाराष्ट्र में शुरूआत से ही कोरोना के मामले अधिक रहे हैं. बड़ी बात यह है कि राज्य में इस साल एक दिन में कोरोना के सबसे ज्यादा 13 हजार 659 नए मामले सामने आए हैं.

नागपुर में पिछले दिन कोरोना के एक हजार 513 नए केस दर्ज किए गए हैं. नागपुर में अबतक कोरोना के दो लाख 43 हजार 726 मामले सामने आ चुके हैं. इनमें से चार हजार 877 लोगों की मौत हो चुकी है.

मृतकों की कुल संख्या अब 52 हजार 610 हो गई

स्वास्थ्य अधिकारी ने जानकारी दी है कि महाराष्ट्र में अब कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 22 लाख 52 हजार 57 हो गई. स्वास्थ्य अधिकारी ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि कल 54 और मरीजों की मौत के बाद मृतकों की कुल संख्या अब 52 हजार 610 हो गई है. राज्य में पिछले साल आठ अक्टूबर को कोरोना वायरस संक्रमण के 13 हजार 395 मामले सामने आए थे. उसके बाद से संक्रमण के दैनिक मामलों में गिरावट देखी जा रही थी. कल 9,913 लोगों के ठीक होने के बाद संक्रमण से उबरने वाले लोगों की संख्या 20,99,207 हो गई है. राज्य में उपचाराधीन रोगियों की संख्या 99 हजार 8 है.

देश में ढाई महीने में आज आए सबसे ज्यादा मामले

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़े के मुताबिक, देश में बीते दिन 18 हजार 100 लोग कोरोना से ठीक  हुए हैं. अब देश में कोरोना के कुल मामले बढ़कर एक करोड़ 12 लाख 85 हजार 561 हो गए हैं. इनमें से एक लाख 58 हजार 189 लोगों की जान जा चुकी है. हालांकि एक करोड़ 9 लाख 38 हजार 146 लोग कोरोना को मात देकर ठीक भी हो चुके हैं. देश में अब एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 1 लाख 89 हजार 226 हो गई है यानी कि इतने लोग अभी कोरोना संक्रमित हैं.

तेजी से जांच करने और पाबंदियों का कड़ाई से अमल करने के निर्देश

कोविड-19 के मामलों में तीव्र वृद्धि पर रोकथाम के लिए महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने करीबी संपर्को की जांच, संक्रमितों के बेहद करीब आने वालों की पहचान, तेजी से उनकी जांच, हॉटस्पॉट में सघन जांच और मौतों के ऑडिट समेत सात सूत्री कार्ययोजना बनाई है। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ. प्रदीप व्यास ने इस संबंध में तीन मार्च को सभी जिला प्रशासनों को पत्र भेजा था और उन्हें इन बिंदुओं पर तत्काल कदम उठाने का निर्देश दिया गया है। कार्ययोजना में सामाजिक, राजनीतिक एवं धार्मिक जमावड़ों के सिलसिले में दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन करने तथा लोगों को कोविड-19 संक्रमण रोधक आचरणों का पालन करने के वास्ते प्रेरित करने के लिए नागरिक समाज एवं धार्मिक नेताओं को साथ लेने की बात भी कही गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *